diabetes sugar ke lakshan aur ilaj in hindi

शुगर का इलाज | शुगर में गुड़ खाना चाहिए या नहीं ? | शुगर में आहार

मधुमेह या चीनी की बीमारी एक खतरनाक रोग है। रक्त ग्लूकोज (blood sugar level ) स्तर बढा़ हुआ  मिलता है, यह रोग मरीजों के (रक्त मे गंदा कोलेस्ट्रॉल,) के अवयव के बढने के कारण होता है। इन मरीजों में आँखों, गुर्दों, स्नायु, मस्तिष्क, हृदय के क्षतिग्रस्त होने से इनके गंभीर, जटिल, घातक रोग का खतरा बढ़ जाता है। शुगर

■   शुगर की बीमारी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं – Sugar Diet Chart In Hindi
आइये जानें shugar, sugar me kya nahi khana chahiye, sugar bimari ke lakshan, baba ramdev diabetes medicine, ayurvedic treatment for diabetes in hindi pdf, madhumeh ka gharelu ilaj, sugar level control tips ।

शुगर कैसे होता है ?

Sugar kya hai Aur Ye Kaise Hota hai ?

भोजन पेट में जाकर एक प्रकार के ईंधन में बदलता है जिसे ग्लूकोज कहते हैं। यह एक प्रकार की शर्करा होती है। ग्लूकोज हमारे रक्त धारा में मिलता है और शरीर की लाखों कोशिकाओं में पहुंचता है। pancreas (अग्न्याशय) ग्लूकोज उत्पन्न करता है इनसुलिन भी रक्तधारा में मिलता है और कोशिकाओं तक जाता है।

- diabetes ka ilaj - राजीव दीक्षित जी द्वारा बताया गया शुगर का सबसे बढ़िया आयुर्वेदिक इलाज, जरूर पढ़ें और शेयर करें

■   इसकी दो पत्तियों के सेवन से शुगर को जड़ से खत्म करे 100% गारंटी के साथ एक बार इस्तेमाल करके तो देखें

मधुमेह बीमारी का असली कारण जब तक आप लोग नही समझेगे आपकी मधुमेह कभी भी ठीक नही हो सकती है जब आपके रक्त में वसा (गंदे कोलेस्ट्रोल)LDL की मात्रा बढ जाती है तब रक्त में मौजूद कोलेस्ट्रोल कोशिकाओ के चारों तरफ चिपक जाता है !और खून में मोजूद जो इन्सुलिन है कोशिकाओं तक नही पहुँच पाता है (इंसुलिन की मात्रा तो पर्याप्त होती है किन्तु इससे द्वारो को खोला नहीं जा सकता है, अर्थात पूरे ग्लूकोज को ग्रहण कर सकने के लिए रिसेप्टरों की संख्या कम हो सकती है)

हेल्थ से जुड़ी सारी जानकारियां जानने के लिए तुरंत हमारी एप्प इंस्टॉल करें। हमारी एप को इंस्टॉल करने के लिए नीले रंग के लिंक पर क्लिक करें –

http://bit.ly/ayurvedamapp

वो इन्सुलिन शरीर के किसी भी काम में नही आता है जिस कारण जब हम शुगर level चैक करते हैं शरीर में हमेशा शुगर का स्तर हमेशा ही बढा हुआ होता है क्यूंकि वो कोशिकाओ तक नहीं पहुंची क्योंकि वहाँ (गंदे कोलेस्ट्रोल)LDL VLDL जमा हुआ है जबकि जब हम बाहर से इन्सुलिन लेते है तब वो इन्सुलिन नया-नया होता है तो वह कोशिकाओं के अन्दर पहुँच जाता है ! अब आप समझ गये होगे कि मधुमेह का रिश्ता कोलेस्ट्रोल से है न कि शुगर से

■   इस पौधे की सिर्फ़ 4 पत्ती 90 दिनो में मधुमेह को मिटाती है, कितना भी ज़्यादा शुगर लेवल क्यूँ ना हो

शुगर मधुमेह के लक्षण – Symptoms Of Sugar Diabetes

Sugar Ki Bimari Ko Kaise Pahchane In Hindi?

जब सम्भोग के समय पति पत्नी आपस में नही बना कर रख पाते है या सम्भोग के समय बहुत तकलीफ होती है समझ जाइये मधुमेह हो चुका है या होने वाला है क्योकि जिस आदमी को मधुमेह होने वाला हो उसे सम्भोग के समय बहुत तकलीफ होती है क्योकि मधुमेह से पहले जो बिमारी आती वो है सेक्स में प्रोब्लम होना, मधुमेह रोग में शुरू में तो भूख बहुत लगती है। लेकिन धीरे-धीरे भूख कम हो जाती है। शरीर सूखने लगता है, कब्ज की शिकायत रहने लगती है। बार बार बहुत अधिक प्यास लगती है अधिक पेशाब आना और पेशाब में चीनी आना शुरू हो जाती है और रोगी का वजन कम होता जाता है। शरीर में कहीं भी जख्मध्घाव होने पर वह जल्दी नहीं भरता।

- diabetes ke lakshan - राजीव दीक्षित जी द्वारा बताया गया शुगर का सबसे बढ़िया आयुर्वेदिक इलाज, जरूर पढ़ें और शेयर करें

शुगर मधुमेह का इलाज

Sugar Ka Ilaj Aur Gharelu Nuskhe In Hindi

राजीव भाई की एक छोटी सी सलाह है कि आप insulin पर ज्यादा निर्भर ना रहें ! क्यूंकि ये insulin डायबिटीज से भी ज्यादा खराब है side effect इसके बहुत हैं !! तो आप ये आयुर्वेद की दवा का फार्मूला लिखिये !
और जरूर इस्तेमाल करें !!

■   1 रूपये कीमत का यह पत्ता शुगर, पथरी ,घुटनों और जोड़ो के दर्द ,को हमेशा के लिए मिटा देगा..!!
  1. 100 ग्राम (मेथी का दाना )ले ले इसे धूप मे सूखा कर पत्थर पर पीस कर इसका पाउडर बना लें
  2. 100 ग्राम (तेज पत्ता ) ले लें इसे भी धूप मे सूखा कर पत्थर पर पीस कर इसका पाउडर बना लें
  3. 150 ग्राम (जामुन की गुठली )ले लें इसे भी धूप मे सूखा कर पत्थर पर पीस कर इसका पाउडर बना लें
  4. 250 ग्राम (बेलपत्र के पत्ते ) ले लें इसे भी धूप मे सूखा कर पत्थर पर पीस कर इसका पाउडर बना लें

तो इन सबका पाउडर बनाकर इन सबको एक दूसरे मे मिला लें ! बस दवा तैयार है ! इसे सुबह -शाम (खाली पेट ) 1 से डेड चम्मच से खाना खाने से एक घण्टा पहले गरम पानी के साथ लें ! 2 से 3 महीने लगातार इसका सेवन करें !! (सुबह उठे पेट साफ करने के बाद ले लीजिये ) कई बार लोगो से सीधा पाउडर लिया नहीं जाता ! तो उसके लिए क्या करें?? आधे से आधा गिलास पानी को गर्म करे उसमे पाउडर मिलाकर अच्छे से हिलाएँ ! वो सिरप की तरह बन जाएगा ! उसे आप आसानी से एकदम पी सकते है ! उसके बाद एक आधा गिलास अकेला गर्म पानी पी लीजिये !

अगर आप इसके साथ एक और काम करे तो सोने पे सुहागा हो जाएगा ! और ये दवा का असर बहुत ही जल्दी होगा ! जैसा कि आप जानते है शरीर की सभी बीमारियाँ वात,पित ,और कफ के बिगड़ने से होती हैं !! दुनिया मे सिर्फ दो ही ओषधियाँ है जो इन तीनों के सतर को बराबर रखती है !

■   10 रूपये की यह चीज शुगर, पथरी ,घुटने के दर्द ,जोड़ो के दर्द ,को हमेशा के लिए मिटा देगा

गौ मूत्र से करें शुगर का इलाज

अब आप ठहरे अँग्रेजी मानसिकता के लोग ! गौ मूत्र का नाम सुनते ही आपकी नाक चढ़ गई होगी ! और हमारी मजबूरी ये है कि आपको गौ मूत्र का महत्व बताना हो तो हमको अमेरिका का उदाहरण देना पड़ेगा ! तो खैर आपकी जानकरी के लिए बता दूँ कि अमेरिका ने गौ मूत्र पर 6 पेटेंट ले लिए हैं ! उसको इसका महत्व समझ आने लगा है !! और हमारे शास्त्रो मे करोड़ो वर्षो पहले से इसका महत्व बताया है ! लेकिन गौ मूत्र का नाम सुनते हमारी नाक चढ़ती है !

- Gomutra Cow Urine - राजीव दीक्षित जी द्वारा बताया गया शुगर का सबसे बढ़िया आयुर्वेदिक इलाज, जरूर पढ़ें और शेयर करें

खैर जिसको पीना है वो पी सकता है ! गौ मूत्र बिलकुल ताजा पिये सबसे बढ़िया ! बाहरी प्रयोग के लिए जितना पुराना उतना अच्छा है लेकिन पीने के लिए ताजा सबसे बढ़िया ! हमेशा देशी गाय का ही मूत्र पिये (देशी गाय की निशानी जिसकी पीठ पर हम्प होता है ) ! 3 -4 घंटे से अधिक पुराना मूत्र ना पिये ! और याद रखे गौ मूत्र पीना है अर्क नहीं ! आधे से एक सुबह सुबह कप पिये ! सारी बीमारियाँ दूर !

■   इस पत्ते के प्रयोग से सिर्फ 7 दिन में पाएं शुगर से मुक्ति हैं, मोटापे में भी है लाभकारी

त्रिफला चूर्ण से करें शुगर का इलाज

त्रिफला अर्थात तीन फल !

कौन से तीन फल !

1) हरड़ (Terminalia chebula)
2) बहेडा (Terminalia bellirica)
3) आंवला (Emblica officinalis)

एक बात याद रखें इनकी मात्रा हमेशा 1:2:3 होनी चाहिए ! 1 अनुपात 2 अनुपात 3 ! बाजार मे जितने भी त्रिफला चूर्ण मिलते है सब मे तीनों की मात्रा बराबर होती है ! बहुत ही कम बीमारियाँ होती है जिसमे त्रिफला बराबर मात्रा मे लेना चाहिए! इसलिए आप जब त्रिफला चूर्ण बनवाए तो 1 :2 :3 मे ही बनवाए !

सबसे पहले हरड़ 100 ग्राम , फिर बहेड़ा 200 ग्राम और अंत आंवला 300 ग्राम ! इन तीनों को भी एक दूसरे मे मिलकर पाउडर बना लीजिये !! और रात को एक से डेड चमच गर्म दूध के साथ प्रयोग करें !

- triphla churna ke fayde - राजीव दीक्षित जी द्वारा बताया गया शुगर का सबसे बढ़िया आयुर्वेदिक इलाज, जरूर पढ़ें और शेयर करें

■   बिना पढ़े मत छोड़ना शुगर या मधुमेह की रामबाण औषधि, 100% रिजल्ट देगी, जरूर अपनाएँ

सावधानियाँ !

चीनी का प्रयोग कभी ना करें और जो sugar free गोलियां का तो सोचे भी नहीं ! गुड़ खाये , फल खाये ! भगवान की बनाई गई कोई भी मीठी चीजे खा सकते हैं ! रात का खाना सूर्यास्त के पूर्व करना होगा ! मतलब सूर्य अस्त के बाद भोजन ना करें

ऐसी चीजे ज्यादा खाए जिसमे फाइबर हो रेशे ज्यादा हो, High Fiber Low Fat Diet घी तेल वाली डायट कम हो और फाइबर वाली ज्यादा हो रेशेदार चीजे ज्यादा खाए। सब्जिया में बहुत रेशे है वो खाए, डाल जो छिलके वाली हो वो खाए, मोटा अनाज ज्यादा खाए, फल ऐसी खाए जिनमे रेशा बहुत है ।

■   कमर और पीठ के दर्द को शांत करते है ये 7 योगासन, रोजाना करें

दोस्तों sugar ki ayurvedic medicine, type 1 diabetes ka ilaj, sugar me anda khana chahiye, dalchini se sugar ka ilaj, sugar ki kami, jadi buti for diabetes का ये लेख कैसा लगा हमें जरूर बताएं और अगर आपके पास diabetes ka ramban ilaj, sugar ki angreji dawa, ayurved sugar, sugar ka homeopathic ilaj, diabetes ko jad se khatam karne ka upay, madhumeh ke gharelu nuskhe in hindi के सुझाव है तो हमारे साथ शेयर करें।

1 COMMENT

Leave a Reply