पपीते के पत्तों के फायदे papite ke patte ke fayde in hindi

पपीता के फायदे लाभ और औषधीय गुण

पपीता एक ऐसा फल है, जिसे लगभग सभी लोग खाना पसंद करते हैं. आपने यह जरूर पढ़ा होगा कि पपीता खाने के क्या-क्या फायदे हैं? लेकिन आज हम आपको पपीता के पत्तों का रस पीने के फायदे बताने वाले हैं. पपीते के पत्तों में कई तरह के बीमारियों का इलाज संभव है. पपीता का पत्ता आपकी लीवर, किडनी और हार्ट को 70 साल तक बीमार नहीं होने देगा. तो चलिए जानते हैं इसके बारे में। पपीते के पत्तों के फायदे

■    प्याज़ को हाथों पर रगड़ने से मिलेगा इन रोगों से जड़ से छुटकारा

औषधीय गुणों से भरपूर है पपीता

पपीता को आप सब्जी और फल दोनों बोल सकते है| यह जब कच्चा होता है तो इसे लोग सब्जी बनाकर खाते है| वहीँ जब पपीता पक जाता है तब इसे फल के रूप में खाया जाता है| आपको शायद पता ना हो तो आपको बता दू की पके पपीता में सभी फलो से ज्यादा गुण पाए जाते है| इसलिए अगर आप नियमित रूप से पपीते का सेवन करते है तो आपका शरीर कई बीमारियों से दूर ही रहता है|

पपीता केवल फल नहीं है यह एक दवाई भी है

क्योंकि यह पेट से दिल तक स्वस्थ्य लाभ पहुंचता है। पपीता एक ऐसा फल है, जो कच्चा और पका हुआ दोनों ही रूप में खाया जाता है। सबसे अच्छी बात यह है पपीते में कई तरह के विटामिन मिलते हैं, नियमित रूप से खाने से शरीर में कभी विटामिन्स की कमी नहीं होती। बीमार व्यक्ति के लिए भी यह बहुत फायदेमंद होता है। यह आसानी से अवशोषित होकर शारीर को काफी फायदा पहुचता है। पपीते में पपेन नामक पदार्थ पाया जाता है जो मांसाहार गलाने के काम आता है। भोजन पचाने में भी यह अत्यंत सहायक होता है।

■   1 रूपये कीमत का यह पत्ता शुगर, पथरी ,घुटनों और जोड़ो के दर्द ,को हमेशा के लिए मिटा देगा..!!

पपीते के पत्तों के फायदे

Health Benefits Of Papaya Leaves In Hindi

पपीते के पत्तों के फायदे डेंगू के लिए ( Papite Ke Patte For Dengue)

डेंगू के उपचार के लिए पपीते के पत्तों का रस रामबाण की तरह कार्य करता है. पपीते के पत्तों का रस ब्लड में प्लेटलेट्स और आरबीसी को बढ़ाता है। जिससे ब्लड सर्कुलेशन में तेजी से सुधार होता है।

2 पपीते के पत्तों के फायदे कैंसर के लिए (Papite Ke Patte For Cancer)

कैंसर की रोकथाम में पपीते का पत्ता लाभदायक होता है। पपीते के पत्तों में एंटी ट्यूमर गुण पाए जाते हैं. जो ट्यूमर को बढ़ने से रोकने में सहायक होते हैं. पपीते के पत्तों का रस सर्वाइकल कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और फेफड़ों के कैंसर को होने से रोकते हैं।

3 पपीते के पत्तों के फायदे कब्ज के लिए (Papite Ke Patte For Kabj Constipation)

पपीते के पत्तों का रस कब्ज दूर करने में भी लाभकारी साबित होता है। क्योंकि यह एक लैक्सेटिव के रूप में भी जाना जाता है. लैक्सेटिव कब्ज की समस्या को दूर करता है।

■   पूरे शरीर में कहीं भी और कोई भी ब्लाक नस को खोलने का अचूक घरेलु उपाय

पपीते के पत्तों के फायदे लीवर, किडनी और हार्ट के लिए (Papite Ke Patte For Liver Kidney Heart)

पपीते के पत्तों का रस शरीर की इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत करते हैं। पपीते के पत्तों में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं. जो ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने और लीवर, किडनी और हार्ट को सही रखने में सहायक होते हैं। साथ ही यह हमारे हार्ट को भी स्वस्थ बनाए रखता है।

पके पपीते खाने के फायदे

Health Benefits Of Papaya In Hindi

1 आँखों की रौशनी (Papaya Benefits For Eyesight In Hindi)

पके पपीते में विटामिन ए और सी भरपूर मात्रा में मौजदू होती है| जिसका सेवन रोजाना 10 दिनों तक करने से आँखों की रौशनी बढती है साथ ही बढती उम्र के साथ होने वाली बीमारियों से भी बचाए रखता है|

■   आँखों की रोशनी को इतनी तेज कर देगा ये नुस्खा की सारी जिंदगी चश्मे की जरूरत नहीं पड़ेगी

2 मोटापा (Papaya Benefits For Weight Loss In Hindi)

अगर आपका वजन काफी ज्यादा है और आप अपने वजन को घटाना चाहते है| तो अपने डाईट में पके पपीते को जरुर शामिल करे| kacha papita ke fayde

क्या करें और कैसे करें

सिर्फ 10 दिनो तक लगातार पके पपीते खाने से आपको अपने शरीर में फर्क दिखना शुरू हो जाएगा|

3 दिल की बीमारी (Papaya Benefits For Heart Problems In Hindi)

पपीते में एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन ए, सी और इ पाया जाता है। इस ऑक्सीडेंट से शारीर में कोलेस्ट्रॉल नहीं जम पाता, जिससे वजह से दिल की बीमारी नहीं होती। इसके अलावा इसमें फाइबर होते हैं जो कोलेस्ट्रॉल को खून में कंट्रोल कर के रखते हैं।

4 पाचन तंत्र के लिये (Papaya Benefits For Digestion In Hindi)

पपीते के रस में ‘पॅपेइन’ नामक एक तत्त्व पाया जाता है, जो आहार को पचाने में अत्यंत मददगार साबित होता है। इसमें दस्त और पेशाब साफ करने का गुण होता है। जिन लोगों को कब्ज की शिकायत हमेशा होती रहती है उनको पपीते का नियमित सेवन करना चाहिए।

■   ख़राब पाचन शक्ति ठीक करने के 5 आसान घरेलू उपाय और देसी नुस्खे

5 एजिंग रोके (Papaya Benefits For Ageing In Hindi)

समय से पहले बूढा होना भला कौन चाहेगा। पपीता इसी को रोकता है। इस फल को खाने से हमारा शरीर भोजन से सारे पोषण आराम से ग्रहण कर लेता है, जिससे उसकी जरुरत पूरी हो जाती है। अब अगर शरीर में सारे जरुरी पोषण जाएंगे तो वह सालों साल जवान दिखता रहेगा।

6 कील मुंहासे 

सौंदर्य प्रसाधनों में भी इसका प्रयोग किया जाता है। पके हुए पपीते का गूदा चेहरे पर लगाने से मुहांसे और झांई से बचाव किया जाता है। इससे त्वचा का रूखापन दूर किया जाता है और झुर्रियों को रोका जा सकता है। इसलिए चेहरे के दाग धब्बों को मिटाने के लिये इसका प्रयोग बहुत ही लाभदायक है।

7 कैंसर (Papaya Benefits For Cancer In Hindi)

पपीते में एंटी कैंसर के गुंण पाए जाते हैं। इसमें मौजूद विटामिन सी, बीटा कैरोटीन और विटामिन इ शरीर में कैंसर सेल बनने से रोकते हैं। इसलिये आपको रोज अपनी डाइट में पपीता खाना चाहिये।

   सबसे ज्यादा कैंसर करने वाली इन 3 चीजों को हम हर रोज इस्तेमाल करते हैं

8 आंखों के लिये (Papaya Benefits For Eyes In Hindi)

पपीता नेत्र रोगों में हितकारी होता है, क्योंकि इसमें विटामिन ‘ए’ प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, इसके सेवन से रतौंधी नामक (रात को न दिखाई देना) रोग का निवारण होता है और आँखों में ज्योंति बढ़ती है। पपीता से रक्तशुद्धि, पीलिया रोग का निवारण, अनियमित मासिक धर्म में हितकारी तथा सौंदर्य वृद्धि में सहायक होता है।

9 दाद (Papaya Benefits For Ringworm In Hindi)

पपीते का दूध निकालकर कुछ दिनों तक दाद पर लगाने से दाद ठीक होता है। papita ke fayde skin ke liye

10 प्लीहा रोग 

प्लीहा रोग से पीड़ित रोगी को पपीता का सेवन प्रतिदिन करना चाहिए। इससे प्लीहा रोग ठीक होता है।

■   दाद खुजली की आयुर्वेदिक दवा 100% राहत daad khaj khujli Medicine in Hindi

11 यकृत (जिगर) रोग 

यदि छोटे बच्चों के यकृत (जिगर) खराब रहता हो तो उसे प्रतिदिन पपीता खिलाना चाहिए। पपीता यकृत (जिगर) को ताकत देता है। यह पेट के सभी रोगों को भी समाप्त करता है।

क्या करें और कैसे करें

पपीता और सेब खाने से बच्चों के जिगर की खराबी दूर होती है। papita ke fayde bataye

12 कब्ज़ (Papaya Benefits For Constipation In Hindi)

कच्चा पपीता या पका पपीता खाने से कब्ज की शिकायत दूर होती है। कब्ज से पीड़ित रोगी को प्रतिदिन सुबह पपीते का दूध पीना चाहिए। इससे कब्ज दूर होकर पेट साफ होता है। खाना खाने के बाद पपीता खाने से कब्ज की शिकायत दूर होती है।

क्या करें और कैसे करें

पपीते के दूध व अदरक के रस में 50 ग्राम अजवाइन मिलाकर छाया में सूखा लें। सूख जाने पर यह आधा चम्मच की मात्रा में भोजन के तुंरत बाद पानी से लें। इससे कब्ज दूर होती है। यह गैस बनना, गले व छाती की जलन, भूख का न लगना, गुदा की खुजली आदि को भी ठीक करता है।

■   कब्ज का है ये अद्भुत उपाय पहले ही प्रयोग में दिखेगा फर्क, जरूर अपनाएँ और शेयर करे

13 पेट के कीड़े (Papaya Benefits For Stomach Worms In Hindi)

पपीते के 10 बीजों को पानी में पीसकर चौथाई कप पानी में मिलाकर लगभग 7 दिनों तक लगातार पीने से पेट के कीड़े समाप्त होते हैं।

14 बच्चों के शारीरिक शक्ति व लम्बाई के लिए (Papaya Benefits For Height In Hindi)

जिन बच्चों की शारीरिक लम्बाई कम होती है या शरीर कमजोर होता है, उसे प्रतिदिन पपीता खिलाना चाहिए।

15 अपच 

आधे चम्मच कच्चे पपीते का दूध चीनी के साथ प्रतिदिन लेने से अपच (भोजन का न पचना) दूर होता है।

16 पुरानी खाज-खुजली (Papaya Benefits For Itching In Hindi)

पपीते का दूध और सुहागा को उबलते पानी में डालकर खाज-खुजली पर लगाने से दाद-खुजली दूर होती है।

■   खुजली और फोड़ा-फुंसी को जड़ से मिटाने के लिए मात्र एक ग्लास ही काफी है

17 नारू रोग 

पपीते के पत्तों का रस अफीम में मिलाकर लेप करने से नारू शीघ्र ही बाहर निकल जाता है।

18 हृदय का रोग (Papaya Benefits For Heart In Hindi)

पपीते के पत्तों का काढ़ा बनाकर प्रतिदिन पीने से हृदय का रोग ठीक होता है। इसके सेवन से घबराहट दूर होती है। बुखार में हृदय की कमजोर व नाड़ी का अधिक तेज चलने के रोग में आजमाएं ये नुस्खा –

क्या करें और कैसे करें

पपीते के पत्तों का काढ़ा बनाकर सेवन करना चाहिए। पपीते के पत्ते को पानी में उबालकर उसके पानी को छानकर पीने से हृदय रोग में लाभदायक है।

■   हृदयाघात को रोकें सिर्फ 1 मिनट में

19 सौन्दर्य बढ़ाने के लिए (Papaya Benefits For Beautiful Skin In Hindi)

चेहरे के दाग, धब्बे व मुंहासे ठीक करने के लिए और चेहरे को चाँद सा खूबसूरत बनाने के लिए करें ये प्रयोग –

Step 1

पके पपीते को छीलकर पीस लें और इसे चेहरे पर लगाएं। इसे लगाने के 15-20 मिनट के बाद जब यह सूख जाए तो चेहरे को पानी से धो लें और मोटे तौलिए से चेहरे को अच्छी तरह साफ करें।

Step 2

इसके बाद चेहरे पर तिल या नारियल का तेल लगाएं। इस तरह इसका उपयोग करने से 1 से 2 सप्ताह में ही चेहरे के दाग, धब्बे व मुंहासे ठीक हो जाते हैं और चेहरा सुन्दर बनता है।

20 कमर पतली व सुडौल बनाए (Papaya Benefits For Slim Waist In Hindi)

युवतियों को अपनी कमर को सुन्दर व सुडौल बनाने के लिए प्रतिदिन कुछ महीने तक पपीता खाना चाहिए। इससे कमर पतली व सुडौल बनती है।

■   कमर पतली करने और स्लिम होने के 5 आसान उपाय और तरीके

21 त्वचा कोमल, चिकनी व मुलायम (Papaya Benefits For Soft Skin In Hindi)

कुछ दिनों तक इसका प्रयोग करने से त्वचा कोमल, चिकनी व मुलायम बनती है। khali pet papita khane ke nuksan

क्या करें और कैसे करें

10 ग्राम पपीते का गूदा, 10 बूंद नींबू का रस, आधा चम्मच गुलाब जल एवं 10 मिलीलीटर टमाटर का रस मिलाकर चेहरे व शरीर के दूसरे अंगों पर लेप करें। लेप करने के 15 से 20 मिनट बाद हल्के गर्म पानी से साफ चेहरे को साफ कर लें।

22 खून बनता है 

खून की कमी होने पर रोगी को प्रतिदिन पपीता खाना चाहिए। इससे पाचन क्रिया ठीक होता है और खून बनता है।

23 मोटापा (Papaya Benefits For Weight Loss In Hindi)

लगभग 300 ग्राम पपीता प्रतिदिन खाने से मोटापा दूर होता है।

■   सिर्फ 1 गिलास गर्म पानी पीने से कब्ज, हार्ट अटैक, मोटापा, जोड़ो का दर्द और जवां बने रहने तक 11 फायदे जान दंग रह जाएंगे आप

24 चेहरे की त्वचा खुश्क व झुर्रिदार (Papaya Benefits For Dry Skin In Hindi)

चेहरे की त्वचा खुश्क व झुर्रिदार होने पर बचाव के लिए प्रतिदिन पपीता खाना चाहिए।

25 चेहरे पर चमक (Papaya Benefits For Glowing Skin In Hindi)

चेहरे का रंग निखारने के लिए करें ये उपाय –

क्या करें और कैसे करें

एक कप पपीते का रस व एक कप अमरूद का रस मिलाकर दिन में 2 बार पीना चाहिए। इससे कुछ ही दिनों मे चेहरे पर चमक आ जाती है।

26 त्वचा रोग (Papaya Benefits For Skin Problems In Hindi)

सभी त्वचा रोग में पपीते का रस, गाजर का रस और आधी मात्रा में पालक का रस मिलाकर दिन में 2 बार पीने से त्वचा रोग ठीक होता है।

■   चम्मच से करें अपना हेल्थ चेकप और 1 मिनट में जानें अपने स्वास्थ्य के बारे में

27 चेहरे के मुहांसे, कील, झाईयां (Papaya Benefits For  Beautiful Skin In Hindi)

चेहरे के मुहांसे, कील, झाईयां आदि को दूर करने के लिए करें ये उपाय –

क्या करें और कैसे करें

पके पपीते व आलू का रस मिलाकर दिन में 2-3 बार चेहरे पर लगाएं। इससे चेहरे के मुहांसे, कील व झाईयां दूर होती हैं।

28 चेहरे की तेलीय परत (Papaya Benefits For Oily Skin In Hindi)

पपीते से मिलने वाला रासायनिक तत्त्व चेहरे पर जमी हुई तेलीय परत को हटाने में बहुत लाभकारी रहता है।

क्या करें और कैसे करें

एक पूरी तरह से पके हुए पपीते के अंदर का गूदा लेकर अच्छी तरह उसका लेप बना लें, 15 मिनट तक पपीते के गूदे का लेप चेहरे पर रगड़ कर कुछ देर बाद गुनगुने पानी से धो लें।

रूखी त्वचा के लिए

अगर त्वचा रूखी हो तो पपीते के गूदे में गुलाब जल, चन्दन का बुरादा और हल्दी को मिलाकर उबटन बना कर लगा लें। और बाद में ठण्डे पानी से धो लें।

■   ये रोटी क़ब्ज़ से लेकर बवासीर, ज़ुकाम, रूसी तक करती है ज़बरदस्त फ़ायदे, ये रोटी इस तरह बनाई जाती है

29 बवासीर रोग (Papaya Benefits For Bawaseer In Hindi)

बवासीर के मस्सों पर करीब एक महीने तक लगातार पपीते का दूध लगाने से मस्से सूखकर झड़ जाते हैं।

30 खूनी या बादी बवासीर (Papaya Benefits For Bawaseer In Hindi)

इससे दोनों प्रकार की बवासीर ठीक होता है।

क्या करें और कैसे करें

खूनी या बादी बवासीर में आधा किलो पपीता दिन में 2 बार खाने चाहिए।

31 अम्लपित्त (खट्टी डकारें) 

इस प्रयोग से खट्टी डकारें बंद होती है। यह भोजन को पचाता है और भूख को बढ़ाता है।

क्या करें और कैसे करें

250 ग्राम पके हुए पपीते को सेंधा नमक, कालीमिर्च व थोड़ा नींबू निचोड़कर दिन में 2 बार खाएं।

■   पैरों में नींबू लगाने के बाद जो हुआ वह चौंकाने वाला था

32 जोड़ों का दर्द (Papaya Benefits For Joint Pain In Hindi)

मांसपेशियों के दर्द और जोंड़ों के दर्द को दूर करने के लिए करें ये प्रयोग –

क्या करें और कैसे करें

पपीते के पत्ते को गर्म करके चिकने भाग की तरफ से बांधना या सिंकाई करना चाहिए। इससे जोड़ों व मांसपेशियों का दर्द ठीक होता है।

33 टांसिल होने पर (Papaya Benefits For Tonsil In Hindi)

टांसिल बढ़ने तथा गले में दर्द होने पर करें ये प्रयोग –

क्या करें और कैसे करें

1 गिलास गर्म पानी में 1 चम्मच पपीते का दूध मिलाकर गरारा करने से तुंरत आराम हो जाता है।

■   किसी भी बिमारी का रामबाण इलाज है यह तेल ! इस तेल में छुपे हैं अनेक फायदे

34 तिल्ली (प्लीहा) के रोग

मलेरिया ज्वर में भी पपीते का रस या पपीता खाने से ज्वर (बुखार) के कारण होने वाली उल्टी आदि तुरंत बंद हो जाती है।पपीता का नियमित रूप से सेवन करने से तिल्ली का बढ़ना ठीक होता है।

क्या करें और कैसे करें

तिल्ली या प्लीहा बढ़ने पर पपीते का रस एक कप की मात्रा में दिन में 3 बार रोगी को देने से तिल्ली का बढ़ना ठीक होता है।

35 हड्डी का टूटना (Papaya Benefits For Bone In Hindi)

पपीते का एक कप रस, आधा कप गाजर का रस एवं आघा कप आंवले का रस मिलाकर दिन में 2 बार पीने से हड्डी का टूटना ठीक होता है और दर्द में आराम मिलता है।

36 जी मिचलाने या उल्टी होना (Papaya Benefits For Vomitting In Hindi)

एक कप पपीते का रस और अनार, संतरा, अनन्नास व टमाटर का रस आधा-आधा कप। इस सभी को एक साथ मिलाकर पीने से जी मिचलाने या उल्टी आना बंद होता है।

■   उल्टी रोकने और जी मिचलाने के 10 आसान घरेलू उपाय इन हिंदी

37 उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) (Papaya Benefits For High B.P. In Hindi)

उच्च रक्तचाप से पीड़ित रोगियों को प्रतिदिन पपीता सेवन करना चाहिए।

क्या करें और कैसे करें

पपीते का रस 1 कप, गाजर, संतरे आधा-आधा कप और तुलसी व लहसुन का रस 2-2 चम्मच। इन सभी को मिलाकर कुछ दिनों तक दिन में 2 बार सेवन करने से उच्च रक्तचाप सामान्य बनता है।

38 कांच निकलना (गुदाभ्रंश)

पपीते के पत्तों को पीसकर पानी में मिलाकर गुदाभ्रंश पर लगाने से गुदाभ्रंश ठीक होता है।

39 दस्त रोग (Papaya Benefits For Diarrhea In Hindi)

कच्चे पपीते को उबालकर खाने से दस्त का बार-बार आना रोग ठीक होता है।

■   दस्त रोकने और पेट की मरोड़ का इलाज के 10 आसान उपाय

40 गुर्दे की पथरी (Papaya Benefits For Kidney Stone In Hindi)

पथरी की समस्या से जड़ से छुटकारा पाने के लिए करें ये उपाय –

क्या करें और कैसे करें

6 ग्राम पपीते की जड़ को पीसकर 50 ग्राम पानी में मिलाकर 21 दिनों तक सुबह-शाम पिएं ।

41 पाचनशक्ति की कमजोरी (Papaya Benefits For Digestion In Hindi)

एक पक्के हुए पपीते को काटकर उसमें कालीमिर्च का चूर्ण मिलाकर प्रतिदिन खाने से पाचनशक्ति की कमजोरी दूर होती है। कच्चे पपीते की सब्जी बनाकर खाने से पाचनशक्ति मजबूत होती है।

■   पाचन और मेटाबॉलिज्म को रखना है दुरुस्त, तो 10 मिनट में करें ये 3 व्यायाम

42 यकृत (जिगर) का रोग (Papaya Benefits For Liver Problems In Hindi)

प्रयोग 1

पपीते के बीजों को सुखाकर बारीक चूर्ण बना लें और यह चूर्ण 3 ग्राम की मात्रा में आधा नींबू का रस मिलाकर दिन में 2 बार सेवन करें। इससे यकृत की बीमारी दूर होती है।

प्रयोग 2

कच्चे पपीते का रस 2 चम्मच लेकर चीनी मिलाकर देने से यकृत और प्लीहा रोग में आराम मिलता है।

43 मधुमेह के रोग (Papaya Benefits For Diabetes In Hindi)

पपीता, कत्था, खैर व सुपारी का काढ़ा बनाकर पीने से मधुमेह रोग में लाभ मिलता है। इससे मधुमेह का रोग ठीक होता है।

क्या करें और कैसे करें

20 गाम पपीता, 5 ग्राम कत्था व सुपारी को मिलाकर कूट लें और फिर काढा बनाकर सेवन करें।

■   मधुमेह या डायबिटीज के रोगियों के लिए किसी संजीवनी बूटी से कम नहीं है यह पौधा

44 प्लेग रोग (Papaya Benefits For Plague In Hindi)

अगर पेशाब में खून आता है तो करें ये उपाय-

क्या करें और कैसे करें

पपीता को घिसकर लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग की मात्रा में सुबह-शाम प्लेग रोग से पीड़ित रोगी को देना चाहिए।

45 पेट के कीड़े (Papaya Benefits For Stomach Worms In Hindi)

प्रयोग 1

पपीते के 5 से लेकर 7 बीजों को ताजे पानी के साथ 5 दिनों तक सेवन करने से पेट में कीड़ों के कारण होने वाला दर्द कीड़ों के मरने के साथ ठीक होता है।

प्रयोग 2

10 से 15 पपीते के बीज को पानी में पीसकर 7 दिनों तक खाने से लाभ होता है।

■   सुबह सुबह किशमिश का पानी पीने के अद्भुत फायदे

46 पेट का दर्द (Papaya Benefits For Stomachache In Hindi)

कब्ज (गैस) के कारण होने वाले उदर (पेट) के दर्द के लिए करें ये उपाय –

क्या करें और कैसे करें

पपीता में काली मिर्च, नींबू का रस और सेंधा नमक डालकर खाएं ।

47 एड़ियों का फटना (Papaya Benefits For Phati Aedi In Hindi)

अगर आपके पैरों की एड़ियां भी फट रही है तो जरूर करें इस नुस्खे का प्रयोग –

क्या करें और कैसे करें

पपीते के छिलकों को सुखाकर और पीसकर चूर्ण बनाकर रख लें। फिर इस चूर्ण में ग्लिसरीन मिलाकर दिन में 2 बार कटी-फटी एड़ियों पर लगाएं ।

48 हृदय की धड़कन तेज होना (Papaya Benefits For Heart beats In Hindi)

हृदय की धड़कन सामान्य करने के लिए आजमाएं यह नुस्खा –

क्या करें और कैसे करें

पपीते का गूदा लेकर मथ लें और 100 ग्राम गूदे में 2 लौंग का चूर्ण मिलाकर सेवन करें।

■   असामान्य ह्रदय की धड़कनों को नियंत्रित करने के लिए करें इन चीज़ों का सेवन, 2 दिन में पाएं निश्चित परिणाम

49 हैजा (Papaya Benefits For Cholera In Hindi)

पानी अथवा गुलाबजल में पपीता घिसकर चटाने से हैजा दूर होता है।

50 त्वचा रोग (Papaya Benefits For Skin Problems In Hindi)

चमड़ी के सारे रोगों से जड़ से छुटकारा पाने के लिए करें ये उपाय –

क्या करें और कैसे करें

2 चम्मच कच्चे पपीते का रस सुबह-शाम पिएं।

■   जावित्री त्वचा को जवाँ, ह्रदय को निरोगी, जोड़ो के दर्द, किडनी की सफ़ाई कर जीवनदान देने वाली संजीवनी

51 नखूनों की खुजली (Papaya Benefits For Nails In Hindi)

नाखूनो की खुजली पर करें ये उपाय –

क्या करें और कैसे करें

कच्चे पपीते का रस नाखून खुजला कर लगाने से रोग ठीक होता है।

52 पीलिया का रोग (Papaya Benefits For Jaundice In Hindi)

पका पपीता खाने या कच्चे पपीते की सब्जी बनाकर खाने से पीलिया रोग में लाभ होता है।

53 शरीर का सुन्न होना (Papaya Benefits For Numbness In Hindi)

शरीफे तथा पपीते के बीजों को पीसकर तिल के तेल में मिला लें। इस तेल को सुन्न अंगों पर मलने से रोग में लाभ मिलेगा।

54 खून की कमी (Papaya Benefits For Anemia In Hindi)

शरीर में खून की कमी दूर करने के लिए करें यह प्रयोग –

क्या करें और कैसे करें

पपीते का गुदा 200 ग्राम की मात्रा में लगातार 20 दिनों तक प्रतिदिन खाये।

■   खून की कमी (एनीमिया) : कारण, लक्षण और उपाय – Anemia Diet Chart In Hindi

55 मुहांसे (Papaya Benefits For Acne In Hindi)

पपीते का दूध प्रतिदिन चेहरे पर लगाने से मुंहासे ठीक होते हैं।

56 टांसिल का बढ़ना  (Papaya Benefits For Tonsil In Hindi)

टांसिल की समस्या से जड़ से छुटकारा पाने के लिए करें ये उपाय –

क्या करें और कैसे करें

कच्चे पपीते के हरे भाग को चीर कर उसका दूध निकाल लें और एक चम्मच दूध एक गिलास गुनगुने पानी में डालकर गरारें करें।

■   टॉन्सिल के लक्षण और कारण, जानें इसका पक्का और रामबाण घरेलु इलाज, 3 दिन में पाएं परमानेंट इलाज

ज्यादा पपीता सेवन के हानिकारक प्रभाव

Papita Ke Nuksan In Hindi

गर्भावस्था के दौरान कच्चा या पका पपीता नहीं खाना चाहिए। जिन स्त्रियों को मासिक-धर्म अधिक आता हो उन्हें भी पपीता नहीं खाना चाहिए। प्रमेह, कुष्ठ व अर्श (बवासीर) के रोगियों के लिए कच्चा पपीता हानिकारक होता है। पपीता के बीजो का सेवन करने से ग*र्भपात हो सकता है।

■   बवासीर के मस्से को जड़ से ख़तम करेगा यह प्रयोग, शरीर के अन्य मस्सों में भी है लाभकारी
Loading...

Leave a Reply