ganth ka ilaj

गांठ का इलाज

अक्सर हमारे शरीर के किसी भी भाग में गाँठें बन जाती हैं. जिन्हें सामान्य भाषा में गठान या रसौली  कहा जाता हैं. किसी भी गांठ  की शुरुआत एक बेहद ही छोटे से दाने से होती हैं. लेकिन जैसे ही ये बड़ी होती जाती हैं. इन गाँठों की वजह से ही गंभीर बीमारियां भी हो जाती हैं. ये गाँठें टी.बी से लेकर कैंसर की बीमारी की शुरुआत के चिन्ह होती हैं.

पेट में गाँठ का इलाज, पेट में गाँठ की दवा उपचार और निदान , आर्मपिट की गाँठ के उपचार के घरेलू नुस्‍खे, breast me ganth ka gharelu upchar in hindi, Breast me ganth ka ayurvedic ilaj breast tumor or lumps

अगर किसी व्यक्ति के शरीर के किसी भाग में कोई गाँठ हो गई हैं. जिसक कारण उस गाँठ से आंतरिक या बाह्य रक्तस्राव हो रहा हो. तो हो सकता हैं कि यह कैंसर की बीमारी के शुरुआती लक्षण हो. लेकिन इससे यह भी सुनिश्चित नहीं हो जाता कि ये कैंसर के रोग को उत्पन्न करने वाली गाँठ हैं. कुछ गाँठ साधारण बिमारी उत्पन्न होने के कारण भी हो जाती हैं. किन्तु हमें किसी भी प्रकार की गाँठों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए तथा उसका तुरंत ही उपचार करवाना चाहिए.

गांठ (Ganth) का आयुर्वेदिक इलाज और घरेलू उपाय – 
1. निर्गुण्डी 
2. कचनार की छाल और गोरखमुंडी
3. गेहूं का आटा
4. आकडे का दूध
■  अनुलोम-विलोम प्राणायाम करने से जीवन मे कभी नही होगा हार्ट ब्लॉकेज, गठिया, जोड़ो का दर्द, कैंसर, एलर्जी, ब्लडप्रेशर आदि 100 रोग, जरूर अपनाएँ

कुछ स्त्रियाँ या पुरुष नासूर या ऑपरेशन कराने के डर से जल्द गांठ का इलाज  नहीं करवाते. लेकिन ऐसे व्यक्तियों के लिए यह समझना बहुत ही आवश्यक हैं कि इन छोटी सी गाँठों को यदि आप लगातार नजरअंदाज करेंगें. तो इन गाँठों की ही वजह से ही आपको बाद में अधिक परेशानी का सामना करना पड सकता हैं. आज हम आपको शरीर के किसी भी भाग में होने वाली गाँठ को ठीक करने के लिए कुछ आयुर्वेदिक उपचारों के बारे में बतायेंगें. जिनका वर्णन नीचे किया गया हैं.

गांठ का आयुर्वेदिक इलाज और घरेलू उपाय

Ganth Ka Ayurvedic Ilaj Aur Gharelu Upay 

1. निर्गुण्डी से करें गांठ का इलाज

किसी भी प्रकार की गाँठ से मुक्त होने के लिए 20 से 25 मिली काढ़ा लें और उसमें 1 से 5 मिली लीटर तक अरंडी का तेल मिला लें. इन दोनों को अच्छी तरह से मिलाने के बाद इस मिश्रण का सेवन करें. तो आपकी गाँठ ठीक हो जायेगी.

गांठ - nirgundi - गांठ का आयुर्वेदिक इलाज और घरेलू उपाय – Ganth Ka Ilaj

■  खाली पेट चाय पीने के ये है नुकसान, जरा संभल जाएं

2. कचनार की छाल और गोरखमुंडी

  • किसी भी तरह की गाँठ को ठीक करने के लिए 25 से 30 ग्राम तक कचनार की ताज़ी और सुखी छाल लें और इसे मोटा – मोटा कूट लें.
  • अब एक गिलास पानी लें और इस पानी में कचनार की कुटी हुई छाल डालकर 2 मिनट तक उबाल लें.
  • जब यह अच्छी तरह से उबल जाएँ. तो इसमें एक चम्मच पीसी हुई गोरखमुंडी डाल दें. अब इस पानी को एक मिनट तक उबालें.
  • इसके बाद आप इस पानी को छानने के बाद इसका दिन में दो बार सेवन कर सकते हैं. इस पानी का सेवन करने के बाद आपको गलें, जांघ, हाथ, प्रोटेस्ट, काँख, गर्भाशय, टॉन्सिल, स्तन तथा थायराइड के कारण निकली हुई गाँठ से लगातार 20 – 25 दिनों तक सेवन करने से छुटकारा मिल जाएगा.
गांठ - gorakhmudi - गांठ का आयुर्वेदिक इलाज और घरेलू उपाय – Ganth Ka Ilaj
gorakhmudi

छाती की गाँठ का इलाज, गर्दन की गाँठ का इलाज, गाँठ का इलाज कैसे करें, हर प्रकार की गाँठ का आयुर्वेदिक उपचार, गाँठ का घरेलु इलाज क्या है, शरीर की हर प्रकार की गाँठ का इलाज

 

गांठ - kachnar ke fayde - गांठ का आयुर्वेदिक इलाज और घरेलू उपाय – Ganth Ka Ilaj
kachnar
■  गोरख मुंडी बूढ़े में जवानी भर दे, आँखों को 6/6 और बुद्धि को प्रखर कर दे, सैकडों रोगों का अद्भुत रामबाण उपाय, जरूर पढ़े और शेयर करे

3. गेहूं का आटा

गेहूं का आटा लें और उसमें पानी डाल लें. अब इस आटे में पापड़खार मिला लें और इसका सेवन करें. आपको लाभ होगा.

4. आकडे का दूध

गाँठ को ठीक करने के लिए आप आकडे के दूध में मिटटी मिला लें. अब इस दूध का लेप जिस स्थान पर गाँठ हुई हैं. वहाँ पर लगायें आपको आराम मिलेगा.

गांठ - timthumb - गांठ का आयुर्वेदिक इलाज और घरेलू उपाय – Ganth Ka Ilaj
aak ka ped
■  जानें आहार और सेहत से जुड़ी गलत धारणाओं के पीछे के सच…..
Loading...

15 COMMENTS

  1. बच्चों की उल्टी, पेट फूलने का इलाज नही मिला

Leave a Reply