ये है फार्मूला : 50 ग्राम अलसी + 5 चम्मच अलसी का तेल + 5 चम्मच दही के मिश्रण को साथ में लें इसमें ध्यान यह रखना है की दही को पानी से थोड़ा साफ़ करना है ताकि खटास कम हो जाए…..

- 16684052 1224498434272434 5036905298896753361 n - कैंसर रोगी और उनके परिजन बिना पढ़े न छोड़ें यह पोस्ट, मिल गयी है कैंसर की संजीवनी

कृपया शेयर जरुर करे क्या पता किसी का घर उजड़ने से बच जाए

हालांकि खबर में 50 ग्राम अलसी खाने को लिखा है लेकिन जिनको हले से अलसी खाने का अनुभव न हो वो 20 ग्राम से शुरुआत कर सकते हैं, अलसी को ताजा ही केवल जरुरत भर का पीसना चाहिए. दही बिलकुल ताजा और बिना फ्रीज किया हुआ लेना चाहिए.. गाय के दूध से बना दही हो हो तो ज्यादा अच्छा है दही कुछ पुराना होने से खट्टा हो गया हो तो उसमे साफ़ पानी मिला दें लेकिन दही को मथे नहीं और छन्नी या कपडे में बाँध कर लटका दें खटास कम हो जाएगी. अलसी का जो तेल लेना है वो अच्छी गुणवत्ता का हो .. जब इस प्रयोग को करें तो दूध व दूध से बनी और बाकी चीजे न लें ..

कैंसर की बीमारी पूरी मानवता के लिए बहुत बड़ी चुनौती के रूप में सामने आई है. मॉडर्न मेडिकल साइंस में तो खैर प्रयास किये ही जा रहे है लेकिन चिकित्सा की मुख्य धारा से अलग भी तरह तरह के नुस्खे आदि सामने आते रहते है जो लोगो के अपने अनुभव पर आधारित होते है. इनका कोई क्लिनिकल रिकॉर्ड नहीं होता है. आवश्यक नहीं की सबको एक जैसा ही लाभ मिले लेकिन मरता क्या न करता वाली हालत आ ही जाए तो इन्हें भी अपना कर देख लेना चाहिए. अपने चिकित्सक के संपर्क में जरुर रहें.

■  पेट की गर्मी का इलाज के 10 रामबाण घरेलू उपाय और नुस्खे
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेलू नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Previous articleजीभ में चम्मच लगाकर पता करें थायराइड, मधुमेह, लीवर/किडनी इन्फेक्शन 2 मिनट में
Next article‘एलोपेथी नहीं आयुर्वेदिक दवा है हर बीमारी का इलाज’
Loading...

Leave a Reply